रुद्राभिषेक

रुद्राभिषेक भगवान शिव के प्रति भक्ति और स्नेह का अभिव्यक्ति है, माना जाता है कि इस से भक्तों पर उनकी कृपा बनी रहती है । यह अति सुंदर धार्मिक रीति है जो भक्तों को दीर्घायु, शांति और सुख लाती है। यह रीति भक्तों को शांति, समृद्धि और आध्यात्मिक उन्नति प्रदान करने में सक्षम है।

Rudrabhishek Puja : रुद्राभिषेक पूजा

रुद्राभिषेक पूजा

Rudrabhishek Puja: Infusing Positive Energy and Blessings

Rudrabhisek Puja is an ancient form of worship for Lord Shiva and is believed to be the best way to seek his blessings. In this ritual, a mix of water, milk, honey and a few other ingredients are poured onto the Shiva Lingam. This is a symbolic gesture of showering blessings on Lord Shiva and seeking his grace. The ritual is believed to bring peace and happiness to the devotees and is highly revered. This puja contributes to a strong mind, good health and relieves evil effects.

Empowering Blessings: The Power of Rudrabhishek

The ritual is often accompanied by chanting of mantras, such as the Maha Mrityunjaya mantra, which is believed to be the most powerful mantra of Lord Shiva. The chant is believed to bring prosperity, health and peace to all those who take part in the ritual. Rudrabhishek is a universal act of love and devotion to Lord Shiva. Those who take part in this ritual will be blessed with health, wealth and spiritual enlightenment.

Kinds of Rudrabhishek Puja –

In our scriptures, for the fulfillment of various wishes, many substances and worship materials have been mentioned for the worship of Rudrabhishek. Abhishek is also done cow milk or other milk or only with milk. In special worship, Abhishek is also done with Panchamrit with milk, curd, ghee, honey and sugar separately or together. In this way, by duly anointing the Shivling with various substances, the desired wish is fulfilled.

  • It rains by performing Jalabhishek of Shivling.
  • Do Rudrabhishek with Kushodak i.e. water in which the leaves of Kush grass have been left. This gives relief from incurable diseases.
  • By doing Rudrabhishek with curd, one gets building and vehicle.
  • On anointing Shivling with sugarcane juice, one gets immense Lakshmi.
  • To get rid of diseases, anointing with perfume is beneficial.
  • By doing Rudrabhishek on Shivling with honey and ghee, wealth increases.
  • By mixing sugar in milk and doing Rudrabhishek, even a retarded person becomes a scholar.
  • If you are troubled by enemies, then by anointing Shivling with mustard oil, the enemies will be defeated.
  • Salvation is attained by performing Rudrabhishek on Shivling with the water of pilgrimage.
  • Performing Rudrabhishek with cool water or Ganges water gives relief from fever.

Benefits of Rudrabhishek Puja

After the ritual Rudraabhishek puja, as described in old Hindu texts, Lord Shiva’s blessings and grace prevail in every aspect of life. Even in his Rudra rupa, Lord shiva is extremely generous. The puja Rudraabhishek takes negative energy out of life. Thus, it helps wash away sins, release from past karmas, and spiritual growth

रुद्राभिषेक पूजा: सकारात्मक ऊर्जा और अलौकिक आशीर्वाद

रुद्राभिषेक पूजा में भगवान शिव का पवित्र स्नान कराकर पूजा-अर्चना की जाती है। यह सनातन धर्म में सबसे प्रभावशाली पूजा मानी जाती है जिसका फल तत्काल प्राप्त होता है। इससे भगवान शिव प्रसन्न होकर भक्तों के सभी कष्टों का अंत करते हैं और सुख-शांति और समृद्धि प्रदान करते हैं। पूरे भारत में मंदिरों और घरों में किया जाने वाला रुद्राभिषेक सदियों से भारतीय संस्कृति का हिस्सा रहा है। यह शिव भक्ति का एक शक्तिशाली प्रकार है जो भक्त को शांति और प्रसन्ता प्रदान करता है। यह पूजा कुशाग्रता, अच्छे स्वास्थ्य में योगदान देता है और बुरे प्रभावों से छुटकारा दिलाती है।

दिव्यता सकारात्मक प्रभाव: रुद्राभिषेक की शक्ति

यह अनुष्ठान मंत्रों के जाप के साथ होता है, जैसे कि महा मृत्युंजय मंत्र, जिसे भगवान शिव का सबसे शक्तिशाली मंत्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि अनुष्ठान में भाग लेने वाले सभी लोगों के लिए यह मंत्र समृद्धि, स्वास्थ्य और शांति लाता है। रुद्राभिषेक भगवान शिव के प्रति प्रेम और भक्ति का एक सार्वभौमिक रूप है |जो लोग इस अनुष्ठान में भाग लेते हैं उन्हें स्वास्थ्य, धन और आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त होगा।

रुद्राभिषेक पूजा के प्रकार –

हमारे शास्त्रों में विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए रुद्राभिषेक के पूजन के निमित्त अनेक द्रव्यों तथा पूजन सामग्री को बताया गया है। गोदुग्ध या अन्य दूध मिलाकर अथवा केवल दूध से भी अभिषेक किया जाता है। विशेष पूजा में दूध, दही, घृत, शहद और चीनी से अलग-अलग अथवा सबको मिलाकर पंचामृत से भी अभिषेक किया जाता है। इस प्रकार विविध द्रव्यों से शिवलिंग का विधिवत अभिषेक करने पर अभीष्ट कामना की पूर्ति होती है।

  • शिवलिंग का जलाभिषेक करने से वर्षा होती है। 
  • कुशोदक अर्थात ऐसा जल जिसमें कुश घास की पत्तियां छोड़ी गई हों से रुद्राभिषेक करें। इससे असाध्य रोगों से मुक्ति मिलती है।
  • दही से रुद्राभिषेक करने से भवन-वाहन की प्राप्ति होती है। 
  • शिवलिंग पर गन्ने के रस से अभिषेक करने पर अपार लक्ष्मी मिलती है। 
  • रोगों से मुक्ति हेतु इत्र से अभिषेक करने से लाभ होता है। 
  • दूध से रुद्राभिषेक करने से पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है। 
  • सहस्रनाम-मंत्रों का उच्चारण करते हुए घृत की धारा से रुद्राभिषेक करने पर वंश का विस्तार होता है।
  • दूध में शक्कर मिलाकर रुद्राभिषेक करने के मंदबुद्धि भी विद्वान हो जाता है।
  • शत्रुओ से परेशान हैं तो सरसों के तेल से शिवलिंग पर अभिषेक करने से दुश्मन पराजित होंगे। 
  • तीर्थ के जल से शिवलिंग पर रुद्राभिषेक करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। 
  • शीतल जल या गंगा जल से रुद्राभिषेक करने से ज्वर से शांति मिलती है। 

रुद्राभिषेक पूजा के लाभ

रुद्राभिषेक पूजा के अनुष्ठान के बाद, जैसा कि पुराने हिंदू ग्रंथों में वर्णित है, भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा जीवन के हर पहलू में बनी रहती है। यहां तक ​​कि अपने रुद्र रूप में भी, भगवान शिव अत्यंत उदार हैं। पूजा रुद्राभिषेक जीवन से नकारात्मक ऊर्जा को दूर करता है। इस प्रकार, यह पापों को धोने, पिछले कर्मों से मुक्त होने और आध्यात्मिक विकास में मदद करता है

Scroll to Top